पशुधन विकास क्यों आवश्यक है? Mukhyamantri Pashudhan Vikas Yojana

Mukhyamantri Pashudhan Vikas Yojana

Mukhyamantri Pashudhan Vikas Yojana: भारत में किसानों को अन्नदाता कहा जाता है। भारत एक कृषि प्रधान देश है और इसमें सबसे बड़ा योगदान किसानों का है। केंद्र सरकार और राज्य सरकार द्वारा किसानों के लिए निरंतर कई तरह की योजनाओं की शुरुआत की जाती है ताकि उनकी आय में बढ़ोतरी हो। ज्यादातर किसान खेती के साथ-साथ पशुपालन भी करते हैं ताकि उन्हें ज्यादा से ज्यादा आय हो। सरकार द्वारा शुरू की जाने वाली इन योजनाओं से लोगों को बहुत लाभ मिलता है।

हाल में ही झारखंड राज्य सरकार द्वारा किसानों के लिए एक योजना की शुरुआत की गई है जिसका नाम मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना है। इस योजना में सरकार किसानों को दुधारू पशु खरीदने के लिए 90% तक सब्सिडी प्रदान करेगी। इस योजना का लाभ लेने वाले किसानों को अब दुगना फायदा होगा क्योंकि वह कृषि के अलावा दुधारू पशुओं द्वारा दूध उत्पादन करके अपनी आय बढ़ा सकते हैं। अगर आप मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना के बारे में पूरी जानकारी पाना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें। 

Mukhyamantri Pashudhan Vikas Yojana

Mukhyamantri Pashudhan Vikas Yojana

मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना झारखंड सरकार द्वारा शुरू की गई है कैसी योजना है जिसके अंतर्गत झारखंड राज्य सरकार किसानों को दुधारू पशुओं को खरीदने के लिए सब्सिडी प्रदान करती है। इस योजना के तहत झारखंड के सभी किसानों महिलाओं एवं विकलांग लोगों को यह लाभ दिया जाएगा। इस योजना के तहत सभी वर्ग के लोगों के लिए अलग अलग तरह की सब्सिडी का प्रावधान है।

 मुख्यमंत्री पशुधन योजना में झारखंड राज्य सरकार इस योजना का लाभ लेने वाले लोगों को 50% से लेकर 90% तक सब्सिडी प्रदान करेगी। पशुधन योजना के लिए झारखंड सरकार द्वारा 660 करोड रुपए का बजट निर्धारित किया गया है। इस योजना के तहत न सिर्फ दुधारू पशुओं को बल्कि मुर्गी पालन बकरी पालन और गोपालन के लिए भी सब्सिडी दी जाती है। अगर आप झारखंड के निवासी हैं और योजना के पात्र हैं तो आवेदन करके इस योजना का लाभ ले सकते हैं।

पशुधन विकास क्यों आवश्यक है?

Mukhyamantri Pashudhan Vikas Yojana

झारखंड सरकार द्वारा शुरू की गई पशुधन विकास योजना किसानों एवं पशुपालकों के लिए बहुत ही आवश्यक है क्योंकि उन्हें इस योजना से अपनी आय को दोगुना करने का मौका मिलेगा। इस योजना के तहत किसान और पशुपालक सरकार द्वारा सब्सिडी प्राप्त करके अपने व्यापार को बढ़ा सकते हैं। यहां पर इस योजना से जुड़ी लाभ और विशेषताओं के बारे में बताया गया है।

Read also – बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना कब शुरू की गयी थी?

योजना के लाभ एवं विशेषताएं

इस योजना के शुरू होने से झारखंड के  किसानों एवं अन्य लोगों को बहुत फायदा होगा। यहां पर हमने पशुधन योजना से संबंधित कुछ विशेषताओं और लाभ के बारे में बताया है।

  •  इस योजना के तहत सरकार द्वारा कुल ₹660 का बजट निर्धारित किया गया है।
  •  पशुधन योजना के तहत झारखंड के किसानों एवं अन्य वर्ग के लोगों को इस योजना का लाभ दिया जाएगा।
  •  योजना के तहत किसान दुधारू पशुओं की खरीद एवं बकरी पालन मुर्गी पालन एवं बत्तख पालन के लिए सब्सिडी प्राप्त कर सकते हैं।
  •  इस योजना के शुरू होने से झारखंड के किसानों एवं अन्य लोगों की आय में बढ़ोतरी होगी।
  •  झारखंड राज्य के पशुपालकों को अपना व्यापार बढ़ाने में मदद मिलेगी।
  •  इस योजना में तरह-तरह के हर वर्ग के लोगों के लिए 50% से लेकर 90% तक की सब्सिडी दी जाती है।
  • इस योजना के अंतर्गत झारखंड के महिलाओं अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति एवं अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी।
  •  झारखंड के वैसे लोग जो इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं उन्हें सब्सिडी की राशि सीधे बैंक खाते में दी जाएगी। 

पशुधन योजना में लाभ लेने के लिए पात्रता

 अगर आप इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो आपको इस योजना के तहत सभी नियम जान लेना चाहिए। आइए हम बताते हैं कि पशुधन योजना का लाभ लेने के लिए क्या पात्रता होनी चाहिए।

  • यह योजना झारखंड सरकार द्वारा शुरू की गई है इसीलिए इस योजना का लाभ केवल झारखंड राज्य के लोगों को ही दिया जाता है। अतः इस योजना का लाभ लेने के लिए आपका झारखंड राज्य का स्थाई निवासी होना जरूरी है।
  • इस योजना का लाभ केवल वैसे लोगों को दिया जाता है जो किसान या पशुपालक हैं।
  •  पशुधन योजना का लाभ केवल उन्हीं लोगों को दिया जाता है जो इस योजना के पात्र हैं।
  •  पशुधन योजना में लाभ लेने के लिए आवश्यक सभी दस्तावेज मौजूद होने चाहिए एवं पशुपालकों के पास पशुओं के लिए जगह और पानी की व्यवस्था होनी चाहिए। 

पशुधन योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज

मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना का लाभ लेने के लिए आपके पास निम्न दस्तावेज उपलब्ध होने चाहिए।

  • आधार कार्ड
  •  बैंक कार्ड
  •  बैंक खाता
  •  जाति प्रमाण पत्र
  •  निवास प्रमाण पत्र
  •  राशि  कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो

मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना में ऑनलाइन आवेदन करने का तरीका

इस योजना का लाभ लेने के लिए आपको सबसे पहले ऑफलाइन आवेदन करना होता है इसके बारे में सभी प्रक्रिया यहां पर बताई गई है।

  • अगर आप इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो आपको आवेदन करने के लिए सबसे पहले अपने नजदीकी पशु पालन विभाग कार्यालय में जाना होगा।
  • कार्यालय में जाने के बाद आप वहां से पशुधन विकास योजना का आवेदन फॉर्म प्राप्त कर सकते हैं।
  •  इस फॉर्म में मांगी गई सभी जानकारियों को भरना होगा और सभी जरूरी दस्तावेजों को संलग्न करना होगा।
  •  अगर आपने फॉर्म भर लिया है और सभी दस्तावेजों को संलग्न कर लिया है तो अब आप उसी कार्यालय में जाकर इसे सबमिट कर सकते हैं।
  •  फॉर्म जमा करने के बाद संबंधित विभाग के अधिकारी आपके दिए गए विवरण और दस्तावेजों की जांच करेंगे और सत्यापित होने के बाद आपको योजना का लाभ दे दिया जाएगा।

निष्कर्ष

 इस लेख में मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना के बारे में पूरी विवरण दी गई है। इस आर्टिकल को पढ़कर आप इस योजना के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। अगर आप इस योजना से संबंधित कोई और जानकारी पाना चाहते हैं तो आप हमें कमेंट बॉक्स में लिख सकते हैं। इस योजना से संबंधित अगर आपके पास कोई भी जानकारी या राय हो तो आप हमें भेज सकते हैं।

Q. – मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना का आरंभ किस राज्य में हुआ है?

ans. – इस योजना का आरंभ झारखंड सरकार द्वारा किया गया है।

Q. – मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना का लाभ किसे दिया जाता है?

ans. – मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना का लाभ झारखंड राज्य के किसानों एवं पशुपालकों को दिया जाता  है।

Q. – मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना के क्या लाभ है?

ans. – इस योजना के तहत झारखंड के किसान और पशुपालक को सरकार द्वारा दुधारू पशुओं को खरीदने मुर्गी पालन बकरी पालन एवं बत्तख पालन के लिए सब्सिडी प्रदान की जाती है।

Q. – मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना में कितनी सब्सिडी दी जाती है?

ans. – मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना में हर वर्ग के लोगों के लिए अलग-अलग प्रकार की सब्सिडी है। सामान्यता इस योजना में सरकार द्वारा 50% से लेकर 90% तक सब्सिडी प्रदान की जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *